Tuesday, September 29, 2009

मर्यादा और संसद

जुते चप्पल चला रहे हैं, न्याय के ठेकेदार यहाँ |
मर्यादा का चिर हरण, है सदनों का पर्याय यहाँ ||

शर्म नहीं जिनके अन्दर, ये ऐसे बड़े कलंदर है |
जो फूंके घर खुद अपना, ये वो कलाबाजी बन्दर हैं ||

स्तर उठा रहे संसद का, ये अमर्यादित वचनों से |
फूंक रहे जनता कि दौलत, अपने अपने सपनो पर ||

चोर उचक्कों गुंडों तक से, सबका हिस्सा बंधा हुआ,
जिसकी सत्ता आती है, वो ही बन जाता जोंक नया ||

कुछ खाते हैं चन्दों से, कुछ जन्मदिवस पर खाते है|
जनता सुख भले जाये, ये पार्क नया बनवाते है ||

कोई खता है मंदिर का, कोई मस्जिद कि खाता है|
कौन बताएगा हमको कि, ये पैसा कहाँ से आता है| |

हैं आज करोणों के मालिक, जो कल टुकडों पर जीते थे |
मदिरा बहती है उसके घर, जो कल तक पानी पीते थे ||

जनता के मेहनत का पैसा, कला धन बन जाता है 
सौ रुपया चलते चलते, जब दस रुपया बन जाता है | |

आय पर कर न देने पर, हम चोर यहाँ बन जाते है|
जो रोज घोटाला करते है, वो बा इज्ज़त बच जाते है ||

जुते चप्पल चला रहे हैं, न्याय के ठेकेदार यहाँ |

मर्यादा का चिर हरण, है सदनों का पर्याय यहाँ ||

4 comments:

  1. बिल्कुल सही कहा!!

    बेहतरीन रचना.

    ReplyDelete
  2. अजी आपने तो सब के राज खोल दिये, बहुत सुंदर लगी आप की यह कविता.
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  3. ........ बेहद प्रभावशाली

    ReplyDelete
  4. App sabhi ka bahut bahut dhanyawad!!

    ReplyDelete